Thyroid Symptoms in Hindi: महिलाओं में थायरॉइड के लक्षण, कारण और रामबाण इलाज

Thyroid symptoms in Hindi, महिलाओं में थायराइड के लक्षण, कारण, रामबाण इलाज, कैंसर, थायराइड में प्रेग्नेंट कैसे हो, आयुर्वेदिक उपचार पतंजलि, थायराइड में क्या नहीं खाएं, thyroid ka gharelu ramban ilaj, thyroid women’s health, thyroid symptoms in hindi female, side effects

आजकल की व्यस्त जीवन शैली सीधा हमारे सेहत पर असर डालती है। जिसकी वजह से कई तरह की बीमारियाँ देखी जाती हैं। उन्हीं में से एक बीमारी, थायरॉइड की भी है, जो कि महिलाओं में ज्यादा देखी जाती है। यह थायरॉइड सीधा हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित करता है। इसके कई लक्षण देखे जाते हैं। जैसे मोटापा, अनिद्रा, बेचैनी, आदि। 

दोस्तों, हम अपने आसपास कई महिलाओं को थायराइड से संबंधित परेशानियों से जूझता देखते हैं। ऐसे में अगर आप भी Thyroid symptoms in Hindi के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो ये लेख आपकी मदद करेगा। यहां आपको इसके लक्षण, उपाय, दवा आदि से जुड़ी सभी जानकारियां मिलेंगी।

Thyroid Symptoms in Hindi

थायरॉइड क्या है? (What is Thyroid in Hindi)

आइए पाठकों, Thyroid symptoms in Hindi के बारे में जानने से पहले हम एक नज़र थायराइड और मानव शरीर में इसके महत्व को समझते हैं:

  • यह तितली के आकार की एक ग्रन्थि होती है, जो मानव शरीर में गले के अगले भाग में पाई जाती है।
  • इसका मुख्य कार्य थायरॉक्सिन नामक हार्मोन का निर्माण करना होता है। जो हमारे शरीर के मेटाबोलिज़्म को नियंत्रित करने का काम करती है।
  • थायरॉइड हार्मोन की अधिकता से हाइपर थायरोडीज़्म की बीमारी होती है और इसके कम मात्रा में बनने से हाइपो थायरोडीज़्म की बीमारी होती है।
  • थायरॉइड की बीमारी मूलतः T3 और T4 के निर्माण पर निर्भर करती है। इन दोनों ही हार्मोन्स का काम हमारे शरीर के मेटाबोलिज़्म को नियंत्रित करना है।
  • वहीं TSH जिसका निर्माण पिट्यूटरी ग्रन्थि करती है, T3 और T4 हार्मोन्स के स्त्राव को नियंत्रित करने का काम करती है।

और पढ़ें: पीरियड लेट करने के घरेलू उपाय 

महिलाओं में थायराइड के कारण (Thyroid causes in Females)

दोस्तों, आइए एक नज़र डालते हैं उन मुख्य कारणों पर जिनके चलते महिलाओं में Thyroid symptoms in Hindi देखने को मिलता है:

  • महिलाओं में थायरॉइड बीमारी का मुख्य कारण अधिक तनाव लेना होता है। कुछ लोगों में दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट्स भी थायरॉइड की बीमारी को बढ़ावा देते हैं।
  • आयोडिन की हमारे शरीर में कमी या अधिकता भी थायरॉइड होने का कारण हो सकती है।
  • कभी-कभी यह बीमारी आनुवांशिक(genetic) भी होती है।
  • वहीं डिब्बाबंद(canned) खाने का सेवन भी इस थायरॉइड की बीमारी को बढ़ाने का काम करती है।
  • कम शारीरिक श्रम करना भी इस रोग का प्रमुख कारण है।
  • हाशिमोटो रोग भी थायरॉइड होने का कारण है।
  • इसके अलावा विटामिन B12 की कमी से भी आजकल यह रोग आम हो गया है, खासकर महिलाओं में।
  • गॉइटर जोकि गले की एक बीमारी है, उसकी वजह से भी थायरॉइड की समस्या देखी जा सकती है।
  • डायबिटीज भी इस थायरॉइड होने का कारण होता है।
  • महिलाओं में प्रेग्नेंसी या फिर पोस्ट-प्रेग्नेंसी भी थायरॉइड होने का प्रमुख कारण होता है।

और पढ़ें: महिलाओं में विटामिन डी की कमी के लक्षण

महिलाओं में थायराइड के लक्षण (Thyroid symptoms in Hindi)

थायरॉइड ग्रन्थि के अति सक्रिय (hyper) होने की स्थिति में निम्न लक्षण Thyroid symptoms in Hindi देखे जाते हैं:

  • शरीर के वजन का घटना।
  • अधिक मात्रा में पसीने का आना।
  • ह्रदय की गति का बढ़ना।
  • भूख का बार-बार लगना।
  • रूखे बाल और स्किन का हो जाना।
  • महिलाओं में अनियमित मासिक धर्म का होना।
  • हमेशा तनाव रहना और बेचैनी होना।
  • मांसपेशियों में दर्द और खिचाव बना रहना।
  • कैल्शियम की कमी और अन्य मिनरल्स की कमी होना।
  • वहीं थायरॉइड ग्रन्थि के कम सक्रिय (hypo) हो जाने की स्थिति में निम्न लक्षण देखे जाते हैं।
  • हमेशा थकान का बने रहना।
  • शरीर के वजन का बढ़ना।
  • ज्यादा ठंढ का अनुभव होना।
  • डिप्रेशन या मानसिक रोग का होना।
  • स्किन और बालों का पतला होना व टूटना।
  • भूलने की बीमारी होना।
  • चेहरे और आँखों में सूजन का होना।
  • पसीना कम आना।
  • कोलेस्ट्रॉल के स्तर का बढ़ जाना।
  • मासिक धर्म का अनियमित हो जाना।
  • धड़कन का धीमा हो जाना।

थायराइड के लिए घरेलु उपाय क्या हैं (Thyroid ke Gharelu Upay)

अपनी व्यस्त दिनचर्या से समय निकालकर, खासकर के महिलाओं को शारीरिक श्रम को बढ़ावा जरूर देना चाहिए। साथ ही निम्न उपायों को अपनाएं तो इस बीमारी Thyroid symptoms in Hindi से बहुत हद तक निजात पा सकते हैं:

  • योग को नियमित रूप से शामिल करना।
  • नारियल के तेल का खाने में सेवन करना।
  • सेब या सेब के सिरके का प्रयोग करना।
  • हरे या सूखे धनिये का इस्तेमाल।
  • धूप का सेवन।
  • सलाद और अंकुरित अनाजों का प्रयोग करना चाहिए।
  • ताजे फलों का सेवन और ड्राइ फ्रूट्स का प्रयोग।
  • अखरोट और बादाम अवश्य लें, जहां अखरोट में सेलेनियम होता है; जो थाइरॉइड में कारगर है।
  • अश्वगंधा, आंवला, मुलेठी और ऐलोविरा को भी शामिल कर सकते हैं।  
  • हल्दी वाले दूध को रात मे लें।
  • नींद पूरी लें और डेली वर्क आउट को शामिल जरूर करें।

यहाँ पढ़ें: महिलाओं में कमर दर्द के घरेलू उपचार 

थायरॉइड में क्या ना करें (Precautions in Thyroid in Hindi)

Thyroid symptoms in Hindi के असर को कम करने के लिए हमें कुछ चीजों का ध्यान रखना आवश्यक है:

  • मैदा, चावल और चीनी का सेवन कम करना।
  • अल्कोहल और स्मोकिंग से दूर रहें।
  • तली हुई और मसालेदार खाने से परहेज करें।
  • जंक फूड ना लें।
  • चाय और कॉफी की जगह ग्रीन टी को लें।

महिलाओं में थायराइड का इलाज (Thyroid ke Upay Baba Ramdev)

थायराइड के उपचार के लिए आप आयुर्वेदिक या एलोपेथिक दवाइयों का सहारा ले सकते हैं। जहाँ कि कई तरह के घरेलु साधनों और दवाइयों के प्रयोग से काफी हद तक इस बीमारी से छुटकारा महिलाएं या अन्य कोई भी पा सकता है। पर, इसके लिए समय-समय पर खून की जाँच (blood test) करवानी पड़ती है और कुशल डॉक्टर की सलाह से आप दवाइयाँ ले सकते हैं।

दोस्तों, थायराइड का आयुर्वेदिक इलाज भी लिया जा सकता है। अगर आप एक्सपर्ट से परामर्श ले लें तो उसके बाद पतंजलि के Divya Thyrogrit 60 टैबलेट्स भी ले सकते हैं। इस टैबलेट का निर्माण जड़ी बूटियों से किया गया है। थायराइड की समस्या के साथ साथ गले की समस्या में भी लोग इसका सेवन करते हैं।

और पढ़ें: बाबा रामदेव वेट लॉस होम रेमेडीज

थायराइड में प्रेग्नेंट कैसे हो (Pregnancy in Thyroid in Hindi)

आजकल महिलाओं में प्रेग्नेंसी के दौरान भी थायराइड के लक्षण देखने को मिल रहे हैं। जो प्रायः उन्हीं लक्षणों के साथ होते हैं; जो आमतौर पर देखे जाते हैं। जिसकी वजह गर्भावस्था के दौरान कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। जो सीधे होने वाले बच्चे के सर्वांगीण विकास खासकर के मस्तिष्क पर प्रभाव डालते हैं।

 इसके लिए डॉक्टर की  देख-रेख में प्रेग्नेंट महिलाओं को रहना चाहिए और उनकी परामर्श से थायरॉइड की दवाइयाँ लेते रहनी चाहिए। जब तक कि आपके डॉक्टर उन्हें बंद करने की सलाह ना दें।

नोट: ऊपर दी गई  सामान्य जानकारी इंटरनेट की मदद से लिखी गई है। हम पाठकों से अनुरोध करेंगे कि दी गई जानकारी को व्यवहार में लाने से पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

FAQs

क्या थायराइड किसी को भी हो सकता है?

हाँ, पर महिलाओं में यह ज्यादा होता है।

थायराइड क्यों होता है?

इसकी वजह गलत लाइफ स्टाइल और खान-पान होता है।

क्या थायराइड आनुवंशिक भी होता है?

हाँ।

क्या प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को थायराइड हो सकता है?

हाँ, इसके लिए महिलाओं को सजग रहने की जरूरत होती है।

थायराइड का इलाज क्या है?

इसे आहार, योग, जीवन-शैली में सुधार और दवाइयों की मदद से ठीक किया जा सकता है।

महिलाओं में थायराइड क्यों होता है?

शरीर के होर्मोन्स में बदलाव, अधिक तनाव, आयोडीन की कमी से महिलाओं में अधिकतर थायराइड की समस्या होती है.

और पढ़ें:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top