Periods ka dard kaise kam kare: पीरियड में दर्द का इलाज, कारण, 10 घरेलु उपचार

Periods ka dard kaise kam kare: पीरियड में दर्द का इलाज, पीरियड्स में कमर पेट दर्द, क्रैंप, उपाय, घरेलू नुस्खे, दवा, कारण, (Period pain relief tips in hindi, cramps solution, causes, treatment, area, tablet, food, foods to avoid, period dard ka gharelu upchar)

पीरियड्स का दर्द (Periods Pain) किसी भी महिला के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। अधिकतर महिलाओं को पीरियड्स के वक्त तकलीफ होती है। इस दौरान उन्हें अक्सर पेट के निचले हिस्से में तकलीफ, कमर दर्द, कब्ज़, गैस, जांघों में खिंचाव, थकान, स्तनों में दर्द के साथ मूड स्विंग्स से भी गुजरते देखा जा सकता है। हालांकि हर महिला के अपने अलग लक्षण हो सकते हैं।

कुछ महिलाओं को असामान्य दर्द एवं गर्भाशय में खून की कमी की शिकायत भी हो सकती है। अगर आप भी पीरियड में दर्द का इलाज (Period pain relief tips in hindi) पाने के इच्छुक हैं तो ये लेख Periods ka dard kaise kam kare आपके लिए उपयोगी सिद्ध हो सकता है। इस जानकारी के लिए लेख को अंत तक पढ़ें।

Periods ka dard kaise kam kare

Table of Contents

पीरियड्स में दर्द क्यों होता है?

अक्सर महिलाओं को माहवारी के दौरान दर्द की शिकायत रहती है। पर कभी आपने सोचा है कि महिलाओं को पीरियड्स में आखिर दर्द क्यों होता है? दरअसल पीरियड्स के वक्त दर्द प्रोस्टाग्लैंडिन रसायन की वजह से होता है। प्रोस्टाग्लैंडिन रसायन जिन महिलाओं में ज़्यादा मात्रा में उत्पन्न होता है उन्हे अधिक दर्द का सामना करना पड़ता है। इस रसायन के कारण गर्भाशय की पेशियां संकुचित होती हैं जिससे महिलाओं को पीड़ा होती है।

कुछ महिलाओं को सिस्ट, संक्रमण, एंडोमेट्रियोसीस, बढ़े वजन आदि के चलते भी दर्द का सामना करना पड़ता है। साथ ही कहा जाता है कि अगर मां पीरियड्स के दर्द से परेशान रहती है तो हो सकता है उसकी संतान को भी ये झेलना पड़े। पीरियड्स के दर्द को दो भागों में बांटा गया है:

प्राइमरी पीरियड्स पेन (पीरियड से पहले पेट में दर्द क्यों होता है)

  • ऐसा दर्द पीरियड्स के आने के पहले का संकेत है।
  • इसके दौरान पेट में ऐंठन होती है जो कि गर्भाशय के सिकुड़ने के कारण उत्पन्न होता है।
  • हालांकि प्राइमरी पेन एक प्राकृतिक परेशानी है जिसके दौरान  पेट, जांघों, कमर आदि में तनाव और दर्द महसूस होता है साथ कुछ स्त्रियों को मूड स्विंग्स की समस्या भी रहती है।

सेकंडरी पीरियड्स पेन

  • सेकंडरी पेन वो दर्द है जो तब तक शुरू नहीं होता जब तक स्त्री बीस साल की अवस्था को पार न कर ले।
  • ऐसा दर्द आपकी पूरी पीरियड साइकिल तक हो सकता है।
  • इस दर्द को खतरनाक माना गया है। ये किसी संक्रमण से जुड़ा भी हो सकता है।

Pregnant Women Diet Chart in hindi यहाँ पढ़ें

पीरियड क्रैंप्स के लक्षण (Period cramps symptoms in Hindi)

  • सिरदर्द
  • चक्कर
  • उल्टी
  • पेट के नीचे के भाग में तेज दर्द
  • पैरों में दर्द
  • थकावट
  • शरीर में ऐंठन
  • स्तनों में सूजन
  • मूड स्विंग्स
  • मुंहासे

पीरियड्स के दौरान पैरों में दर्द क्यों होता है? 

पीरियड्स के दौरान पैरों में दर्द होना एक आम बात है।पीरियड्स के वक्त महिलाओं को अक्सर शरीर के निचले हिस्से में दर्द होता है।मांसपेशियां संकुचित होने लगती हैं जिसके चलते उनमें ऑक्सीजन प्रवाह सही से नहीं हो पाता और इससे महिलाओं को पीड़ा होती है।

अगर आप जानना चाहते हैं कि गर्भवती महिला के स्वास्थ्य की देखभाल कैसे करें, तो यहां पढ़ें।

पीरियड्स से पहले पेट में दर्द क्यों होता है?

पीरियड्स के पहले और पीरियड्स के वक्त जो दर्द महसूस होता है उसे डिसमेनोरियल कहते हैं। पीरियड्स के आने से पहले ही महिलाओं को पेट में ऐंठन, सूजन एवं दर्द महसूस होता है। पेट में दर्द का कारण ये होता है कि मासिक धर्म के दौरान यूट्रस की पेशियां संकुचित हो जाती हैं और इससे प्रोस्टग्लैंडिन रसायन निकलते हैं। यूट्रस से जब थक्के बाहर आते हैं तो महिलाओं को दर्द महसूस होता है। कई बार महिलाओं में पेट दर्द की समस्या एंडोमेट्रियोसीस से भी हो सकती है। अगर दर्द अधिक रहता है तो अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें।

पीरियड्स में कमर दर्द क्यों होता है?

  • पीरियड्स के दौरान महिलाओं के गर्भाशय के अंदरूनी भाग का कुछ हिस्सा ओवरी, आंत व फैलोपियन ट्यूब तक पहुंच जाता है जिस से दर्द होता है।
  • कभी गर्भाशय में सिस्ट के कारण भी दर्द होता है।
  • जब कुछ महिलाओं की सर्वाइकल ओपनिंग छोटी होती है तो उससे खून निकलने में समस्या आती है और यूट्रस पर प्रेशर बढ़ता है और कमर में दर्द होता है।
  • कभी कभी खून का बहाव तेज होता है जिस से कमर में दर्द होता है।
  • ओवरी में इन्फेक्शन के कारण भी कमर दर्द होता है।

गर्भावस्था में गैस का इलाज आपको यहाँ बताया जा रहा है, घर पर आप उपचार से इसे ठीक कर सकते हैं.

पीरियड्स में कमर दर्द का इलाज़ (Periods ka dard kaise kam kare)

तुलसी

Periods ka dard kaise kam kare घरेलू इलाज़ की बात करें तो इनमें तुलसी सबसे लाभकारी है। तुलसी में कैफिक एसिड मौजूद रहता है जो कि दर्द को खत्म करने में कारगर है। तुलसी को गरम पानी में उबाल कर उस पानी को ठंडा कर के पी लें।

दालचीनी

दालचीनी दर्द को कम करने में बेहद उपयोगी है। दरअसल दालचीनी में एंटी क्लोटिंग गुण मौजूद होते हैं। साथ ही इसमें फाइबर, कैल्शियम, आयरन आदि की भी भरपूर मात्रा होती है। 

अदरक 

Periods ka dard kaise kam kare पीरियड्स होने पर अदरक की चाय दर्द कम करने में मदद करती है। इसका सेवन करने से थकान भी कम होती है।

गर्म पानी से सेंक

पीरियड्स के दौरान गरम पानी से सेंकने पर मसल्स पर पर रहा स्ट्रेस कम होता है। इससे दर्द में राहत मिलती है। इसलिए ये सलाह दी जाती है कि महिलाएं हॉट वाटर बैग से कमर और पेट की सेकाई करें।

पीरियड में दर्द का इलाज

अक्सर पीरियड्स में महिलाएं ये सोचती हैं कि दर्द से बचने के लिए कौन कौन से उपाय (Periods ka dard kaise kam kare) किए जा सकते हैं। कुछ महिलाएं दर्द से बचने के लिए पेन किलर्स भी खा लेती हैं। हालांकि जानकर पेन किलर्स से बचने की सलाह देते हैं। आम तौर पर पेन किलर्स के स्थान पर इन घरेलू तरीकों से दर्द को कम करने का परामर्श मिलता है:

दूध से बनी चीज़ों का सेवन

जिन महिलाओं को कैल्शियम की कमी होती है उन्हे भी पीरियड्स में काफी दर्द होता है। अतः ये परामर्श दिया जाता है कि दर्द से बचने के लिए दूध और दूध से बने पदार्थों का सेवन ज़रूर करें।

अजवाइन में छुपे हैं गुणकारी तत्व

जो महिलाएं पीरियड्स में गैस की समस्या से जूझ रही होती हैं उनके लिए अजवाइन किसी वरदान से कम नहीं। कभी कभी गैस की वजह से भी पेट में लगातार दर्द होता है। इस Periods ka dard kaise kam kare को दूर करने के लिए गुनगुने पानी में अजवाइन और नमक मिला कर पीने से फायदा होता है।

पपीता खाना है लाभकारी

पपीता खाने से पाचन तंत्र अच्छा रहता है। अगर आप पीरियड्स में पपीते का सेवन कर रही होती हैं तो इस से आपकी पेट दर्द में राहत भी मिलती है और खून का बहाव (Periods ka dard kaise kam kare) भी ठीक रहता है।

सौंफ का सेवन करना है लाभकारी

पीरियड्स में कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए सौंफ का सेवन कर सकते हैं। आप सौंफ को सुबह गुनगुने पानी के साथ पी सकते हैं।

अगर आप जानना चाहती हैं कि प्रेग्नेंसी में कैल्शियम की कैसे दूर करे तो यहां पढ़िए।

पीरियड्स के समय क्या क्या नहीं करना चाहिए?

  • पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अधिक शारीरिक श्रम से बचना चाहिए।
  • बार बार कॉफी के सेवन से बचना चाहिए।
  • पीरियड्स में अल्कोहल का सेवन न करें।
  • इस दौरान जंक फूड का सेवन न करें।
  • महिलाओं को पीरियड्स के दौरान असुरक्षित सेक्स से बचना चाहिए।
  • कोशिश करें कि पीरियड्स में व्रत न करें।

दोस्तो, ऊपर बताए गए पीरियड्स क्रैंप सॉल्यूशन (Periods ka dard kaise kam kare) आपके लिए लाभकारी सिद्ध होंगे। ये घरेलू उपाय आप बड़े आराम से कर सकती हैं। पर अगर आपको अधिक दर्द होता है तो अपने चिकित्सक से परामर्श लेना न भूलें। पीरियड्स जैसी कठिन प्राकृतिक प्रक्रिया में आप अपना पूरा खयाल रखें और खुश रहें। 
नोट:  इन उपायों को अनुभव व इंटरनेट पर उपलब्ध लाभकारी तथ्यों को ध्यान में रख कर बताया गया है। इन्हे प्रयोग में लाने से पहले चिकित्सकों और अनुभवी लोगों से परामर्श ज़रूर लें।

FAQs

पीरियड में दर्द क्यों होता है?

पीरियड्स के वक्त दर्द प्रोस्टाग्लैंडिन रसायन की वजह से होता है। प्रोस्टाग्लैंडिन रसायन जिन महिलाओं में ज़्यादा मात्रा में उत्पन्न होता है उन्हे अधिक दर्द का सामना करना पड़ता है।

पीरियड में दर्द की मेडिसिन का नाम?

ट्रेनेक्सेमिक एसिड जैसी नॉन हार्मोनल दवा पीरियड में दर्द कम करती है। किंतु किसी भी दवा का सेवन डॉक्टर से पूछ कर करें।

पीरियड्स में दर्द कैसे कम करें?

गर्म पानी का सेक, सौंफ, अजवाइन आदि का प्रयोग, जंक फूड से दूरी (Period pain relief tips in hindi) आदि दर्द करने के कारगर उपाय हैं।

पीरियड में क्या खाना चाहिए?

दूध और इससे जुड़े उत्पाद, पपीता, घर का बना खाना आदि।

पीरियड में संबंध बनाने से क्या होता है?

पीरियड्स में संबंध बनाने से संक्रमण का खतरा हो सकता है।

पीरियड में नहाना चाहिए या नहीं?

हां। नहाने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल अच्छा होता है।

पीरियड खत्म होने के बाद पेट में दर्द क्यों होता है?

इसका कारण प्रेग्नेंसी, एंडोमेट्रियोसीस, पेल्विक इन्फ्लेमेटरी डिजीज हो सकते हैं।

पीरियड आने से पहले सफेद पानी क्यों आता है?

इसका कारण शरीर में पोषक तत्वों कमी या इन्फेक्शन भी हो सकता है।

क्या पीरियड में संबंध बनाने से प्रेगनेंट हो सकते हैं?

हां। असुरक्षित शारीरिक संबंध कभी भी गर्भधारण का कारण हो सकता है।

पीरियड क्रैंप्स क्या होता है?

गर्भाशय में संकुचन के कारण पीरियड क्रैंप्स होता है.

पीरियड में चावल खाने से क्या होता है?

पीरियड में दही चावल स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है.

क्या पीरियड में दूध पीना चाहिए?

पीरियड के दौरान डेयरी प्रोडक्ट्स कम लेना चाहिए क्यूंकि इनमें एक एसिड होता है जो दर्द को बढाता है.

और पढ़ें:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top